AppamAppam - Hindi

जून 12 – घनिष्ठता !

“तब यहोवा परमेश्वर ने आदम को लेकर अदन की वाटिका में रखा …। (उत्पत्ति 2: 15)

हमारे परमेश्वर केवल प्रेम करने वाले ही नहीं हैं वरन् वह प्रेम लिए तरसते भी हैं। जब मनुष्य की सृष्टि की तब उसके ऊपर पूर्ण प्रेम को उंडेलकर उसके साथ घनिष्ठ सहभागिता की । एक साधारण सृष्टि से अपने सृष्टिकर्ता का सहभागिता रखना कितना विशेष है!

तब यहोवा परमेश्वर ने मनुष्य को लेकरअदन की वाटिका में रखा, ऐसा पवित्र शास्त्र कहता है। यदि ऐसा है तो फिर आदम को अदन की बारी के बाहर सृजा होगा। तभी यह बात कि मनुष्य को लेकर अदन की वाटिका में रखा, सही साबित होगी।

अर्थात पहले पृथ्वी, फिर पृथ्वी पर एक अदन और अदन में एक बारी इसे हम परमेश्वर के तंबू के रूप में देख सकते हैं। पृथ्वी को बाहरी आंगन ,अदन को पवित्र स्थान और उस बारी को महापवित्र स्थान के रूप में हम देख सकते हैं। परमेश्वर अपनी महिमा से जिस स्थान को भर देते हैं वह महा पवित्र स्थान है। उसे वह अपनी ‘सेकिना’ महिमा से ढांपे हुए थे।

“अदन” इस शब्द को ध्यान से देखें, तमिल भाषा में इस शब्द के अंत में तेन अर्थात शहद की अनुभूति होती है। अदन में शहद से भी परिष्कृत शहद से भी मधुर परमेश्वर की उपस्थिति वहां थी। प्रतिदिन दिन के ठंडे समय में परमेश्वर वहां प्रेम से टहलते हुए जो बात करते थे वे शहद की तरह आदम के कान में बहती होंगी। वह हमेशा परमेश्वर में आनंदित था।

अदन की बारी के समान ही परमेश्वर ने कलीसिया को रखा है। उस अदन की बारी के विभिन्न वृक्षों के समान कलीसिया में विश्वासियों को रखा है। जहां दो या दो से अधिक लोग मेरे नाम से एकत्रित होंगे वहां मैं रहूंगा, कहने वाले परमेश्वर जब कलीसिया एकत्रित होती है ,तब वह हमारे बीच में होते हैं। इसीलिए दाऊद कहता है यह कितनी मनोहर बात है कि भाई लोग आपस में मिलकर रहें।

सारे वृक्षों के फलों को खा कर शरीर में और आत्मा में बढ़ने के लिए परमेश्वर ने उन वृक्षों को दिया। उसी प्रकार कलीसिया में परमेश्वर के वचन और उपदेशों को दिया है। उनको ग्रहण करके आत्मा में मजबूत होना आपके लिए जरूरी है।

अदन की बारी के मध्य में जीवन का वृक्ष था।आज जीवन का वृक्ष यही प्रभु यीशु मसीह हैं। उनको अनंत जीवन के रूप में आपको दिया जाना ही जीवन का वृक्ष है। उनके वचन में जीवन है। वे सामर्थ्य के काम को करते हैं। परमेश्वर के प्रिय बच्चों प्रत्येक दिन यीशु के वचनों को ग्रहण करके जीवन में मजबूत बने रहें।

ध्यान करने के लिए,”मैं इसलिये आया कि वे जीवन पाएँ, और बहुतायत से पाएँ।”(यूहन्ना 10 :10).

Leave A Comment

Your Comment
All comments are held for moderation.

அன்பு தேவபிள்ளைகளே,
ஆண்டவராகிய இயேசுகிறிஸ்துவின் நாமத்தில் என் அன்பின் வாழ்த்துக்கள்.

அடுத்த வாரம், மே 28-ஆம் தேதி சனிக்கிழமை அன்று காலை 9.00 மணி முதல் மதியம் 2.00 மணி வரை பரிசுத்த ஆசீர்வாத உபவாச ஜெபம் நம்முடைய ஏலிம் மகிமையான எழுப்புதல் தேவாலயத்தில் ஒழுங்கு செய்து இருக்கின்றோம். அதில் அடியேனும் என்னோடுகூட தீர்க்கதரிசி வின்சென்ட் செல்வகுமார் அவர்களும் கர்த்தருடைய வார்த்தையை கொண்டுவர இருக்கின்றோம். நீங்கள் அனைவரும் குடும்பத்தோடு இந்த பரிசுத்த ஆசீர்வாத உபவாச ஜெபத்திலே கலந்துக்கொண்டு தேவனுடைய ஆசீர்வாதத்தை பெற்றுக்கொள்ளும்படி இயேசுகிறிஸ்துவின் நாமத்தில் அன்புடன் கேட்டுக்கொள்கின்றேன்.

இப்படிக்கு
போதகர் ஆஸ்பார்ன் ஜெபத்துரை
ஏலிம் மகிமையான எழுப்புதல் தேவாலயம் No.50, இரயில்வே ஸ்டேஷன் ரோடு, கோடம்பாக்கம்.

For Contact-
+919003067777,   +919884908777,   +919884916777