अगस्त 24 – खोला जाएगा!

“यहोवा तेरे लिये अपने आकाशरूपी उत्तम भण्डार को खोलकर तेरी भूमि पर समय पर मेंह बरसाया करेगा, और तेरे सारे कामों पर आशीष देगा…।” (व्यव. 28:12)।

पवित्र शास्त्र में व्यवस्थाविवरण के 28वें अध्याय में, पहले 14 वचन आशीषों से भरे हैं। यदि आप अपने परमेश्वर यहोवा के वचनों को यत्न से मानेंगे तो ये सब प्रतिज्ञाएं आपके जीवन में पूरी होंगी। पवित्रशास्त्र के इस भाग में पाई जाने वाली प्रमुख आशीषों में से एक है “प्रभु आपके लिए अपने आकाश के भंडारों को खोलेंगे।”

मान लें कि आप किसी उदार और धनी व्यक्ति से मदद मांगने जा रहे हैं। वह आपको मदद के रूप में कुछ अच्छा पैसा दे सकता है। यदि वह अधिक दयालु है, तो वह आपको सोना या चाँदी जैसी कीमती वस्तुएँ भी दे सकता है।

लेकिन यीशु मसीह, जो अन्य सभी उदार प्रभुओं में सबसे उदार हैं, जो दया के धनी है और जो अपने पास आने वालों को कभी दूर नहीं करते हैं, वह आपके लिए अपना स्वर्ग काअच्छा खजाना खोल देंगे। तब आपके देश में उचित समय पर वर्षा होगी। जितने कामों में आप हाथ लगाएं वे सब के सब काम आशीषित होंगे।

यदि आप चाहते हैं कि परमेश्वर आपके लिए स्वर्ग खोल दें, तो आपको भी अपना दिल खोलना होगा जब गरीब मदद के लिए चिल्लाएगा। आपको उन लोगों की उदारता से मदद करने के लिए आगे आना चाहिए जो असहाय हैं और जो गरीबी में पीड़ित हैं। यदि आप गरीबों द्वारा की गई सहायता की पुकार के लिए अपने कान बंद कर लेते हैं, तो परमेश्वर भी अपने कान बंद कर लेंगे, जब आप उन्हें पुकारेंगे।

परमेश्वर के एक सेवक को किडनी की समस्या से पीड़ित होने पर एक अस्पताल में भर्ती कराया गया। उस समय, “प्रार्थना समारोह” चल रहा था और रोगी को प्रार्थना के लिए कार्यक्रम स्थल पर लाया गया था। लेकिन, वहां पहुंचने पर उनकी हालत और खराब हो गई और उन्हें तुरंत वापस अस्पताल  ले जाना पड़ा। तत्काल परिवहन के लिए एक कार की आवश्यकता थी और उसके रिश्तेदार मदद के लिए इधर-उधर भाग रहे थे। जब उन्होंने एक अमीर व्यक्ति से गुहार लगाई तो उसने अनिच्छा से अपनी कार देने की पेशकश की। लेकिन अमीर आदमी की पत्नी अपने पति पर चिल्लाने लगी और कार देने से मना कर दिया।

जब पत्नी का दिल नहीं माना, तो पति की इच्छा भी खत्म हो गई। कार के दरवाजे भी बंद हो गए। ऐसे लोगों के लिए परमेश्वर स्वर्ग की खिड़कियां कैसे खोलेंगे? परमेश्वर के प्यारे बच्चों, दो तो तुम्हें भी दिया जाएगा।

ध्यान करने के लिए: “इसलिये इस वाचा की बातों का पालन करो, ताकि जो कुछ करो वह सफल हो” (व्यव. 29:9)।

Article by elimchurchgospel

Leave a comment