सितंबर 04 – परमेश्वर के साथ शांति!

“अतः जब हम विस्वास से धर्मी ठहरे, तो अपने प्रभु यीशु मसीह के द्वारा परमेस्वर के साथ मेल रखे” (रोमियों 5:1)

परमेश्वर के साथ शांति प्राप्त करना वास्तव में एक बड़ी उपलब्धि है। जब आप परमेश्वर के साथ मेल-मिलाप करते हैं और उसके साथ शांति प्राप्त करते हैं, तो जीवन के अन्य सभी मुद्दे अप्रासंगिक हो जाते हैं। केवल मसीह यीशु के द्वारा ही हम परमेश्वर के पास जा सकते हैं और उसके साथ मेल-मिलाप कर सकते हैं।

जब दो पक्षों के बीच विवाद होता है, या यदि वे एक-दूसरे के खिलाफ लड़ रहे होते हैं, तो तीसरे पक्ष द्वारा हस्तक्षेप करने और उनके बीच शांति लाने की प्रथा है। इस तरह के शांति-निर्माता उन पार्टियों या परिवारों के बीच सामंजस्य बिठाने में मदद करते हैं जो असहमति के स्वर में हैं और सद्भाव सुनिश्चित करते हैं। सुलह और शांति लाने के लिए ऐसे मध्यस्थ आवश्यक हैं।

अदन की वाटिका में, आदम और हव्वा ने अपने पापों के द्वारा परमेश्वर के हृदय को दुखी किया। जब आदम और हव्वा ने परमेश्वर के वचन की अपेक्षा सर्प के वचन को सुनना चुना तो परमेश्वर का हृदय दूखित हुआ। इस तरह के अपराध के परिणामस्वरूप, मनुष्य ने परमेश्वर के साथ अपनी संगति और प्रेमपूर्ण संबंध खो दिया। और सबसे बढ़कर, उसने अपनी शांति खो दी।

परमेश्वर के साथ मेल मिलाप करने और उसके साथ शांति में रहने के लिए, आपको अपने पापों का पश्चाताप करने, उन्हें स्वीकार करने और परमेश्वर से पापों की क्षमा प्राप्त करने की आवश्यकता है। पाप कैसे क्षमा होंगे? लिखा है कि बिना खून बहाए माफी नहीं मिलती। यही कारण है कि यीशु मसीह ने कलवारी पर अपने आप को क्रूस पर चढ़ा दिया और हमारे सभी पापों के दाग को धोने के लिए अपना खून बहाया।

सुलह और शांति लाने के लिए यीशु मसीह हमारे और पिता परमेश्वर के बीच मध्यस्थ भी हैं। वह उस मनुष्य की अगुवाई अनुग्रह के सिंहासन के पास करता, जिसके पाप धुल जाते हैं, और यीशु मसीह  मानवजाति के लिए बहाए गए अपने बहुमूल्य लहू के द्वारा, उस मनुष्य का परमेश्वर के साथ मेल मिलाप कराता है।

यही वह सच्चाई है जिसने मार्टिन लूथर के जीवन को बदल दिया। इससे पहले, वह पिता परमेश्वर को हमेशा केवल एक धर्मी न्यायी के रूप में देखता था। लेकिन जब वह मसीह की मध्यस्थ है और इस वादे को जो उसने अपने वचन मे किया है की ‘धर्मी विश्वास से जीवित रहेंगे,”  तो वह बहुत खुश हुआ।

यीशु मसीह उस पुल की तरह है जो मनुष्य को ईश्वर से जोड़ता है, उस पुल की तरह जो दो पहाड़ों के बीच की खाई को जोड़ता है। परमेश्वर के प्रिय बच्चों, यीशु मसीह के बहुमूल्य लहू के द्वारा परमेश्वर के साथ अपनी शांति के लिए आश्वस्त रहें।

मनन की लिए: “और केवल यही नहीं, वरन हम अपने प्रभु यीशु मसीह के द्वारा, जिसके द्वारा हमारा मेल मिलाप हुआ है, परमेश्वर में आनन्दित होते हैं।” (रोमियों 5:11)

Article by elimchurchgospel

Leave a comment