जुलाई 15 – हम खुद को देखेंगे!

“मैं ने प्रभु को बहुत ही ऊंचे सिंहासन पर विराजमान देखा” (यशायाह 6:1)।

आपको परमेश्वर को देखना होगा। आपको उनकी छवि देखनी होगी। आपको उनकी महानता और महिमा को महसूस करना होगा। जब आप परमेश्वर को देखते हैं, तब आप खुद को भी देखेंगे।

खुद को देखने के लिए जरूरी है कि आप परमेश्वर का दर्शन करें। यशायाह ने परमेश्वर को देखा। इससे उसने खुद को देखा और महसूस किया कि वह कितनी दयनीय स्थिति में है। उसने महसूस किया कि वह अशुद्ध होंठ वाला व्यक्ति है और अशुद्ध होंठ वाले लोगों के बीच निवास कर रहा है।

जब आप परमेश्वर के सामने खड़े होते हैं, तो आपका विवेक निश्चित रूप से आपको आपके पापों का एहसास करायेगा। आपके सभी कपट, घिनौने पहलू और आपके जीवन की अन्य कमियों को खुले तौर पर प्रकट किया जा सकता है। इसलिए, जब आप हर दिन परमेश्वर की उपस्थिति में खड़े होते हैं, तो यह आपको खुद का मूल्यांकन करने और आप में सभी कमियों से छुटकारा पाने में मदद करेगा।

जब आपको अपनी वास्तविक स्थिति का पता चले, तो आंसुओं के साथ परमेश्वर से क्षमा मांगें और अपने आप को सुधारें। तब, परमेश्वर आपको शक्तिशाली रूप से उपयोग करेंगे।

पवित्रशास्त्र कहता है, “मैं ऊँचे पर और पवित्र स्थान में निवास करता हूँ, और उसके संग भी रहता हूं ,जो खेदित और नम्र है, कि नम्र लोगों के हृदय और खेदित लोगों के मन को हर्षित करूं।” (यशायाह 57:15)।

जब आप परमेश्वर से मिलें, तो उन्हें आपका टूटा हुआ और दुखी हृदय देखने दें। उन्हें देखने दें, कि आप पवित्र जीवन जीने की कितनी ज्यादा इच्छा रखते हैं। उन्हें आपकी आँसुओं के साथ की गई प्रार्थना को देखने दें।

दाऊद कहता है, ” टूटा मन परमेश्वर के योग्य बलिदान है; हे परमेश्वर, टूटे और पिसे हुए मन को तुच्छ नहीं जानता” (भजन संहिता 51:17)। वह आपके आंसुओ के साथ रोने को कभी नजरअंदाज नहीं करेंगे।

कमरे में तैरती धूल के कणों को नंगी आंखों से नहीं देखा जा सकता। लेकिन जब सूरज की किरणें छप्पर की छत के एक छेद से गुजरते हुए कमरे में प्रवेश करती हैं तो धूल के हजारों कण तैरते हुए देखे जा सकते हैं। उसी तरह, हो सकता है कि आप अपने भीतर के अधर्मों को देख न पायें।

जब आप परमेश्वर की उपस्थिति में बैठते हैं, तो पवित्र आत्मा का प्रकाश आप पर पड़ता है और वह आपको आपके भीतर की सभी गलतियों और कमियों का एहसास दिलाएगा। उस स्तर पर, परमेश्वर की उपस्थिति आपको अपनी कमियों को आंसुओं के साथ अंगीकार करने और उनसे छुटकारा पाने में मदद करेगी।

ध्यान करने के लिए: “हे परमेश्वर, मुझे जांच कर जान ले! मुझे परख कर मेरी चिंताओं को जान ले” (भजन संहिता 139:23)।

Article by elimchurchgospel

Leave a comment