जुलाई 02 – अब्राहम की सच्चाई!

“धन्य है मेरे स्वामी अब्राहम का परमेश्वर यहोवा, जिसने अपनी करुणा और सच्चाई को मेरे स्वामी पर से हटा नहीं लिया…” (उत्पत्ति 24:27)।

परमेश्वर विश्वासयोग्य है और वह अपनी संतानों से भी विश्वासयोग्य होने की अपेक्षा करता है। परमेश्वर ने अब्राहम में विश्वासयोग्यता देखी। यह परमेश्वर की आज्ञा मानने की विश्वासयोग्यता थी। जब परमेश्वर ने कहा, “अपने देश , और अपने कुटुंबियों और अपने पिता के घर को छोड़कर उस देश में चला जा जो मैं तुझे दिखाऊंगा” (उत्पत्ति 12:1), अब्राहम ने आज्ञा मानी और वैसा ही किया।

उन दिनों गंतव्य को जाने बिना यात्रा करना कितना ख़तरनाक होता था! इसके लिए बड़ी मानसिक शक्ति की आवश्यकता होती थी। वैसे भी, अब्राहम परमेश्वर की आज्ञा मानने में विश्वासयोग्य था।

अब्राहम के जीवन को जाकर देखें। उसकी विश्वासयोग्यता हमारे दिलों को हैरान करती है। उसकी विश्वासयोग्यता की महानता तब प्रकट हुई, जब उसने इसहाक को जो उसका इकलौता पुत्र था, उसे मोरिय्याह पर्वत की वेदी पर बलि के रूप  रखा। यही वह स्थिति थी जिसमें परमेश्वर को उसकी सराहना करनी पड़ी।

एलीएजेर के शब्दों को ध्यान से पढ़ें जो अब्राहम का सहायक था। उसने कहा, “धन्य है मेरे स्वामी अब्राहम का परमेश्वर यहोवा, जिसने अपनी करुणा और सच्चाई को मेरे स्वामी पर से हटा नहीं लिया नहीं छोड़ा। यहोवा ने मुझको ठीक मार्ग पर चला कर मेरे स्वामी के भाई बंधुओं के घर पर पहुंचा दिया है” (उत्पत्ति 24:27)।

परमेश्वर ने अब्राहम के वंश को पीढ़ी-दर-पीढ़ी उसकी विश्वासयोग्यता के लिए चुना और आशीष दी। उन्होंने खुद को ‘अब्राहम की संतान’ कहकर अब्राहम को ऊंचा उठाया (मत्ती 1:1)। परमेश्वर उनके लिए विश्वासयोग्य बने रहते हैैं जो उनके प्रति विश्वासयोग्य होते हैं।

परमेश्वर के प्रिय बच्चों, आपका पूर्वज अब्राहम है। आप उसे विश्वासियों का पिता कहते हैं। आप अब्राहम के वंश की सारी विरासत के वारिस हैं। उस स्थिति में, आपको भी उतना ही विश्वासयोग्य होना चाहिए जितना कि अब्राहम था।क्या ऐसा नहीं है?

परमेश्वर को  दुचित्तापन, दोहरे रास्ते और पाखंड कभी पसंद नहीं आते। “देख तू हृदय की सच्चाई से प्रसन्न होता है और मेरे मन ही में ज्ञान सिखाएगा” (भजन संहिता 51:6) भजनकार की इस प्रार्थना की तरह, आपकी भी प्रार्थना यही हो!

मनन करने के लिए:  “ उसके मन को अपने साथ सच्चा पाकर, उससे वाचा बांधी कि मैं तेरे वंश को कनानियों, हित्तियों, एमोरियों, परिज्जियों, यबूसियों, और गिर्गाशियों का देश दूंगा। और तू ने अपना वह वचन पूरा किया है, क्योंकि तू धर्मी है” (नहेम्याह 9:8)।

Article by elimchurchgospel

Leave a comment