अगस्त 27 – परमेश्वर के मुख का प्रकाश!

“बहुत से हैं जो कहते हैं, “कौन हम को कुछ भलाई दिखाएगा?” हे यहोवा, तू अपने मुख का प्रकाश हम पर चमका!” (भजन 4:6)।

हमारे पास एक ऐसे परमेश्वर हैं जो हमें सभी अच्छी चीजें पूर्ण रूप से देते हैं। हमें सांसारिक लोगों की तरह यह कहते हुए विलाप करने की आवश्यकता नहीं है, “कौन हमारे लिए भलाई करेगा?”

परमेश्वर आपके लिए एक चरवाहे के रूप में रहते हैं। चूँकि आप उसकी भेड़ हैं, इसलिए आपको कभी किसी चीज की कमी नहीं होती। आपको कभी भी झुकना नहीं पड़ेगा। यिर्मयाह भविष्यद्वक्ता कहता है, “परन्तु यहोवा वास्तव में परमेश्‍वर है; जीवित परमेश्‍वर और सदा का राजा वही है।” (यिर्मयाह 10:10)।

धन्य हैं वे, जिनके शरणस्थान परमेश्वर हैं, वे जो उनके प्रेम का स्वाद चखते हैं, जो पूरी तरह से उनके मार्गों पर चलते हैं और जो परमेश्वर के मुख के प्रकाश से प्रकाशित होते हैं। पवित्रशास्त्र कहता है, “वे देश देश के लोगों को पहाड़ पर बुलाएँगे; वे वहाँ धर्मयज्ञ करेंगे; क्योंकि वे समुद्र का धन, और बालू में छिपे हुए अनमोल पदार्थ से लाभ उठाएँगे” (व्यव. 33:19)।

परमेश्वर जो अपने बच्चों को खिलाकर संतुष्ट करते हैं, वह हैं जो समुद्रों की बहुतायत से पृथ्वी की आशीष के साथ देंगे। वह लोगों को रेत में छिपे खजाने में हिस्सा बांटने की अनुमति भी देते हैं। उन्होंने उन्हें दुनिया के लोगों से छुपाया है, लेकिन उन्हें अपने बच्चों को अनुग्रहपूर्वक देते हैं।

19वीं और 20वीं शताब्दी में किए गए अधिकांश आविष्कार मसीही वैज्ञानिकों द्वारा किए गए थे। वे परमेश्वरीय लोग थे और जब उन्होंने प्रार्थनापूर्वक परमेश्वर से सहायता मांगी, तो उन्होंने उन पर छिपी हुई बातों को प्रकट किया। जब कोई उन पर अपना विश्वास रखता है और जब कोई खुले दिल से उनसे मांगता है, तो परमेश्वर ज्ञान और बुद्धि के खजाने से आपको बेशुमार रूप से देकर आपको आशीषित करते हैं।

दुनिया में सबसे पहले अमेरिका के वैज्ञानिक रॉकेट से चांद की यात्रा करने वाले और वहां पैर रखने वाले पहले व्यक्ति थे। वे अंतरिक्ष यात्री बाइबल को अपने साथ अंतरिक्ष में ले जाना नहीं भूले। इसलिए परमेश्वर ने उन्हें इतिहास में अतुलनीय प्रसिद्धि दिलाई।

परमेश्वर के प्यारे बच्चों, क्या आप में बुद्धि, ज्ञान और विवेक की कमी है? आज ही परमेश्वर की ओर देखें। पवित्रशास्त्र कहता है, “पर यदि तुम में से किसी को बुद्धि की घटी हो तो परमेश्‍वर से माँगे, जो बिना उलाहना दिए सब को उदारता से देता है, और उसको दी जाएगी” (याकूब 1:5)।

ध्यान करने के लिए: “पर धीरज को अपना पूरा काम करने दो कि तुम पूरे और सिद्ध हो जाओ, और तुम में किसी बात की घटी न रहे” (याकूब 1:4)।

Article by elimchurchgospel

Leave a comment