अगस्त 19 – विश्वासी जो प्रसन्न करता है!

“और विश्‍वास बिना उसे प्रसन्न करना अनहोना है” (इब्रानियों 11:6)।

इस दुनिया में, परमेश्वर को कैसे प्रसन्न करें, यह आपका मुख्य ध्येय होना चाहिए। जब आप उन्हें प्रसन्न करने के लिए कुछ करते हैं, तो वह आप में आनन्दित होंगे और आगे भी, वह आपके आत्मा के प्रेम करने वाले के रूप में हमेशा के लिए रहेंगे। उन्हें कैसे प्रसन्न करें?

सबसे पहले, आपने परमेश्वर में जो विश्वास रखा है ,यही वह कारक है जो यह निर्धारित करता है कि वह आपसे किस हद तक प्यार करते हैं। पवित्रशास्त्र कहता है कि विश्वास के बिना उन्हें प्रसन्न करना असंभव है। हाँ। आपको उन पर विश्वास करना होगा। आपको केवल उन्हीं पर सौ प्रतिशत विश्वास रखना होगा। कहें, “परमेश्वर , मैं केवल आप पर विश्वास करता हूं” और इसे एक हजार बार दोहराएं। तदनुसार, उस विश्वास को लागू करें।

अपने जीवन को विश्वास के अधिकारी बनाने के लिए आपको क्या करना होगा? पवित्रशास्त्र कहता है, “अत: विश्‍वास सुनने से और सुनना मसीह के वचन से होता है” (रोमियों 10:17)। आपके जीवन को उस पर विश्वास बनाए रखने के लिए, परमेश्वर का वचन आपके लिए आवश्यक है। पवित्रशास्त्र, जो आत्मा और जीवन है, परमेश्वर के प्रेम को आप तक लाने में एक बड़ी भूमिका निभाता है। जब आप उन पर अपना विश्वास रखेंगे और उन पर निर्भर हो जाएंगे, तो वह आपसे प्रसन्न होंगे।

परमेश्वर द्वारा अब्राहम पर अपना प्रेम रखने के पीछे क्या रहस्य है? यह अब्राहम का परमेश्वर पर विश्वास था। पवित्रशास्त्र कहता है, “और निश्‍चय जाना कि जिस बात की उसने प्रतिज्ञा की है, वह उसे पूरा करने में भी समर्थ है” (रोमियों 4:21)। उस विश्वास के तीन भाग होते हैं।

सबसे पहले, उसने अपने शरीर और सारा के गर्भ के मृत होने पर ध्यान नहीं दिया। दूसरे, उसने केवल उसी पर महत्व दिया जो परमेश्वर ने उससे कहा था। तीसरा, वह परमेश्वर की महिमा करता रहा और इस प्रकार विश्वास में दृढ़ होता गया। इस प्रकार, वह परमेश्वर को प्रसन्न करने वाले के रूप में बना रहा।

अब्राहम का अनुसरण करें और अपनी शारीरिक कमजोरी पर ध्यान न दें। अन्य असफलताओं और कमियों के बारे में न सोचें। साथ ही,  परमेश्वर के सभी वादों और उनके द्वारा किए गए सभी चमत्कारों को याद रखें। फिर, यह कहते हुए परमेश्वर की महिमा करें, “परमेश्वर का धन्यवाद, क्योंकि आप मेरे जीवन में ये सब काम करने जा रहे हैं।” तब आप भी विश्वास में अब्राहम के समान अच्छे हो जाएंगे और परमेश्वर को प्रसन्न करेंगे।

परमेश्वर पर पूर्ण विश्वास रखें। परमेश्वर को प्रसन्न करने का यही एकमात्र तरीका है।

ध्यान करने के लिए: “अब विश्‍वास आशा की  हुई वस्तुओं का निश्‍चय, और अनदेखी वस्तुओं का प्रमाण है।” (इब्रानियों 11:1)।

Article by elimchurchgospel

Leave a comment