अगस्त 17 – आप किसे प्रसन्न करते हैं?

“अत: हम बलवानों को चाहिए कि निर्बलों की निर्बलताओं को सहें, न कि अपने आप को प्रसन्न करें” (रोमियों 15:1)।

आप किसे प्रसन्न करते हैं? आपका जीवन किस पर निर्भर रहता है? आप किसकी ओर भाग रहे हैं? कुछ लोग खुद को खुश करते हैं। कुछ अन्य और लोगों को खुश करते हैं। जो स्वयं को प्रसन्न करते हैं वे स्वार्थी बने रहते हैं। जो लोग दूसरों को खुश करते हैं वे अंत में दुःखी होते हैं। लेकिन, जो परमेश्वर को प्रसन्न करते हैं वे हमेशा के लिए खुश रहते हैं।

पिलातुस को देखो! वह भीड़ को खुश करना चाहता था (मरकुस 15:15)। उसकी यह गलत धारणा थी कि लोगों को प्रसन्न करने से उसे, लंबे समय तक उच्च पद पर बने रहने में मदद मिलेगी। उसने सोचा, ‘लोग बरअब्बा को रिहा करना पसंद करते हैं। अगर मैं अभी लोगों को खुश करता हूं, तो वे मेरा समर्थन करेंगे और इस तरह, मैं वर्तमान उच्च पद पर बना रह सकता हूं। मुझे दूसरों से उपहार मिलते रहेंगे और मैं बिना किसी विरोध के शासन चला सकता हूं।’ वह यीशु मसीह को खुश नहीं करना चाहता था। उसने शायद सोचा होगा कि यीशु को खुश करना उसके लिए किसी भी तरह से फायदेमंद नहीं होगा।

ओह! ऐतिहासिक पुस्तकें कहती हैं कि पिलातुस का अंत दयनीय था। दोषी अंतःकरण से त्रस्त होकर वह पागलों की तरह इधर -उधर भटकता रहा था। अंत में उसने तालाब में कूदकर आत्महत्या कर ली। पिलातुस की नाई लोगों को प्रसन्न करके परमेश्वर को दुखी न करें। हमेशा यीशु को प्रसन्न करें जिन्होंने आपके नथुने में प्राण फूंक दिए और जिन्होंने आपके लिए क्रूस पर स्वयं को बलिदान कर दिया।

निश्चित ही, आपको अपनी पत्नी, बच्चों और अन्य रिश्तेदारों को खुश करना चाहिए। लेकिन किसी भी सांसारिक रिश्ते के प्रति प्रेम प्रकट करना, परमेश्वर को दुखी करके न करें।

एक बार सेना में एक उच्च पद पर आसीन एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी से अपने दोस्तों को शराब परोसने के लिए कहा लेकिन उसकी पत्नी ने ऐसा करने से इनकार कर दिया। उसने प्यार से कहा, “एक पत्नी के रूप में, आपके प्रति मेरी कुछ जिम्मेदारियां हैं। लेकिन, मैं आपको खुश करने के लिए परमेश्वर को दुखी नहीं करना चाहती। ”

इस दुनिया में आपका जीवन थोड़े समय के लिए ही रहने वाला है। लेकिन आपको स्वर्ग के राज्य में परमेश्वर के साथ करोड़ों साल जीना होगा। आप मनुष्य को प्रसन्न कर रहे हैं या परमेश्वर को? परमेश्वर के प्यारे बच्चों, एक ऐसा जीवन जीने का संकल्प लें जो परमेश्वर को प्रसन्न करे।

ध्यान करने के लिए: “अब मैं क्या मनुष्यों को मनाता हूँ या परमेश्‍वर को? क्या मैं मनुष्यों को प्रसन्न करना चाहता हूँ? यदि मैं अब तक मनुष्यों को ही प्रसन्न करता रहता तो मसीह का दास न होता ” (गलातियों 1:10)।

Article by elimchurchgospel

Leave a comment